नरेंद्र मोदी का एक्शन प्लान तैयार। 3 बड़ी घोषणाए जो बदल देगी देश की शक्ल|

6218

modi action plan

एक के बाद एक अपने बेहतरीन आयोजनो की उद्घोषणा कर रहे माननीय प्रधान मंत्रीजी ने काफ़ी हद तक यह सॉफ कर दिया है की वे सिर्फ़ दहाड़ने वेल शेरो मे से नही है| 2014 से लेके 3 साल के उनके कार्यकाल मे उन्होने जो उपलब्धिया हाँसिल की है वो शायद ही किसी प्रधान मंत्री ने की हो| हाला की काफ़ी लोग अभी भी उनके बारे मे संदिग्ध है| उनकी बकेट लिस्ट मे जो प्लॅन्स है वो देख के यह सहज तौर पे कह सकते है की वे अभी रुकनेवाले नही है| पीएम मोदी के यह 3 एक्शन प्लान के बारे मे जानके आप भी अपने आप को हमारी बात से सम्मत होने से नही रोक पाएँगे|

स्टार्टअप एक्शन प्लान

startup action plan

नया कारोबार शुरू करने वालों के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट ‘स्टार्टअप इंडिया’ कैंपेन को लॉन्च कर दिया है. शनिवार को विज्ञान भवन में इस दौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि हम स्टार्टअप को प्राथमिकता देंगे. एक्शन प्लान के बारे में जानकारी देते हुए पीएम ने कहा कि स्टार्टअप के लाभ पर 3 साल तक न तो टैक्स देना होगा और न ही कोई अधि‍कारी जांच के लिए आएगा. मोदी ने कहा कि लोगों के पास बहुत से आइडियाज हैं, मौका मिले तो वो कमाल करके दिखा सकते हैं.

प्रधानमंत्री ने आगे कहा, ‘स्टार्टअप से उबर कुबेर बन गया. स्टार्टअप की उपयोगिता जोखि‍म लेने से तय होती है. लोग आज तकनीक से जुड़कर तुरंत अपनी बात पहुंचा सकते हैं. एप से बहुत फायदा होता है. मैंने खुद नरेंद्र मोदी एप का फायदा देखा है. मेरे एप से जुड़‍िए मैं आपको सफलता की कहानी बताउंगा. लोग सक्सेस स्टोरी सुनेंगे तो आगे आएंगे. हर किसी को एक शुरुआत की जरूरत होती है.’ मोदी ने कहा कि जो कुछ करना चाहते हैं उनके लिए पैसे मायने नहीं रखते, जोखि‍म उठाना जरूरी है.

स्टार्टअप एक्शन प्लान की मुख्य बातें

– सेल्फ सर्टिफिकेट आधारित कमप्लायंस की व्यवस्था
– तीन साल तक कोई इंस्पेक्शन नहीं
– स्टार्टअप के लिए वेब पोर्टल और मोबाइल एप
– छोटे फॉर्म के जरिए ई-रजिस्ट्रेशन
– स्टार्टअप के लिए एग्जि‍ट की भी व्यवस्था होगी
– पेटेंट फीस में 80 फीसदी की कटौती
– इंटेलेक्चुअल प्रोपर्टी के लिए कानूनी मदद
– स्टार्टअप से प्रॉफिट पर तीन साल तक टैक्स नहीं
– प्रमुख शहरों में सलाह के लिए निशुल्क व्यवस्था
– स्‍टार्टअप इंडि‍या हब के तहत सिंगल प्‍वाइंट ऑफ कॉन्‍टैक्ट
– हैंडहॉल्‍डिंग की व्‍यवस्‍था की जाएगी
– सार्वजनि‍क और सरकारी खरीद में स्‍टार्टअप को छूट मि‍लेगी
– 10 हजार करोड़ रुपये का फंड बनाया जाएगा, इसमें हर साल 2500 करोड़ रुपये का फंड स्‍टार्टअप्‍स को दि‍ए जाएंगे
– चार साल तक 500 करोड़ रुपये प्रति‍वर्ष का क्रेडि‍ट गारंटी फंड बनाया जाएगा
– शेयर मार्केट वैल्‍यू से ऊपर के इन्‍वेस्‍टमेंट पर टैक्‍स में छूट दी जाएगी
– अटल इनोवेशन मिशन की शुरुआत, इसके तहत स्‍टार्टअप को कंपटेटिव बनाना होगा
– एंटरप्रेन्योर के नेटवर्क को बनाया जाएगा, स्‍टार्टअप को सीड कैपिटल देने के साथ कई अन्‍य सुविधाएं
– 35 नए इन्‍क्‍यूबेशन सेंटर खोले जाएंगे
– बच्‍चों में इनोवेशन बढ़ाने के लिए इनोवेशन कोर प्रोग्राम शुरू होगा
– 5 लाख स्‍कूलों के 10 लाख बच्‍चों की पहचान की जाएगी जो इनोवेशन को आगे बढ़ा सकें
– अपनी प्रॉपर्टी को बेच कर स्‍टार्टअप शुरू करने पर कैपि‍टल गेन टैक्‍स की छूट दी जाएगी

गंगा एक्शन प्लान

ganga action plan

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट गंगा सफाई अभियान की  औपचारिक शुरुआत हो चुकी है। इस मिशन की अगुवाई सिंचाई एवं गंगा सफाई मंत्री उमा भारती कर रही हैं। उनके साथ चार अन्य मंत्री भी होंगे। इनकी आज बैठक होने वाली है। इसमें उमा के अलावा जहाजरानी मंत्री नितिन गडकरी, सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर, ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल और पर्यावरण मंत्री श्रीपद नायक होंगे।

गंगा की सफाई के लिए इससे जुड़े मंत्रालयों की जिम्मेदारी तय कर दी गई है। पर्यावरण मंत्री श्रीपदनायक को गंगा नदी के तटों पर पर्यटन के विकास की जिम्मेदारी दी गई है। वहीं, पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को गंगा की सफाई की जिम्मेदारी दी गई है। नितिन गडकरी के ट्रांसपोर्ट और शिपिंग मंत्रालय को नेशनल वाटर वे विकसित करने की जिम्मेदारी दी गई है। गंगा सफाई अभियान पर प्रधानमंत्री कार्यालय नजर रखेगा।

पहली बार गंगा सफाई के लिए केंद्र सरकार की समयबद्ध नीति से गंगोत्री से गंगा सागर तक के श्रद्धालुओं में खुशी की लहर दौड़ गई है। गत वर्ष समग्र गंगा यात्रा के नाम पर साध्वी उमा भारती के नेतृत्व में गंगोत्री से गंगा सागर तक हुए तमाम कार्यक्रमों में इस तरह के नजारे देखे गए थे जिसमें गंगा के किनारे खाली जमीन का दोहन हो रहा है। अब उमा भारती को ही इस मंत्रालय की बागडोर सौंप दी गई है जिसकी वजह से गंगा माफियाओं की बेचैनी बढ़ गई है। यह पहला मौका है जब गंगा सफाई को प्रधानमंत्री ने गंभीरता से लिया हो और किसी मंत्रालय को इसकी अतिरिक्त जिम्मेदारी दी गई हो। हालांकि इस काम में अन्य कई मंत्रालयों को भी सक्रिय कर दिया गया है

अंबेडकर जयंती एक्शन प्लान

modi action plan

प्रधान मंत्री ने अंबेडकर की जयंती मनाने के लिए सप्ताह भर के समारोह की घोषणा की और डिजिटल अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए सरकार द्वारा विकसित बीएचआईएम ऐप के उपयोग को लोकप्रिय बनाने पर जोर दिया।

मोदी ने कहा, “अम्बेडकर जी जिस चीज़ के लायक, उसे हासिल करना अभी बाकी है,” उन्होंने कहा कि भाजपा का आरोप है कि कांग्रेस शासन ने अन्य दिग्गजों की जगह  पर गांधी-नेहरू परिवार के सदस्यों को बढ़ावा दिया।अम्बेडकर जयंती को मनाने के लिए, सरकार 14 अप्रैल को संविधान के अग्रणी फ्रैमर की 125 वीं वर्षगांठ के लिए एक सिक्का शुरू करने की योजना बना रही है।

 

Facebook Comments